Tuesday, May 12, 2009

मैथिली मिथिला चित्रकला, आधुनिक कला आ चित्रक संकलन (पूर्णतः अव्यवसायिक उद्देश्य आ मात्र एकेडमिक प्रयोग लेल)


"VIDEHA" Ist Maithili Fortnightly ejournal ARCHIVE OF MITHILA PAINTING, MODERN ART AND PHOTOS 'विदेह' प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका मिथिला चित्रकला, आधुनिक कला आ चित्रक आर्काइव

वि  दे   विदेह Videha বিদেহ http://www.videha.co.in  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine  विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका   नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू Always refresh the pages for viewing new issue of VIDEHA.
 "VIDEHA" Ist Maithili Fortnightly ejournal ARCHIVE OF MITHILA PAINTING, MODERN ART AND PHOTOS 'विदेह' प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका मिथिला चित्रकला, आधुनिक कला आ चित्रक आर्काइव
मैथिली मिथिला चित्रकला, आधुनिक कला
आ चित्रक संकलन 
(पूर्णतः अव्यवसायिक उद्देश्य आ मात्र  एकेडमिक प्रयोग लेल) 
 चित्र-चित्रकला डाउनलोड करबाक लेल संबंधित लिंक पर राइट क्लिक आ सेव टारगेट एज किंवा सेव लिंक एज क्लिक करू। For download of paintings, photos right click respective links and save target as or save link as.

उमेश मण्डल


उमेश मण्डल (मिथिलाक वनस्पति)
खजूर गाछमे तारी चुऔलहा खातल चेन्‍ह   खजूर गाछमे पीपड़ आ बर जनमल। कहल जाइत जे ई दुनू केतौ जनमि‍ सकैए    गहुम   गुल्‍लैर गाछ, फड़क तरकारी बनैत, दूधक रबड़ बनैत। नवजात शि‍शुमे दूधक दवाइ रूपमे कि‍छु काज अबैत। पात बकरीकेँ बि‍एलापर खि‍आएल जाइत, तखन बकरीकेँ जल्‍दी दूध उतरैत।     चाफ बाँस    तीन फेरा आमक गाछ। डोमा बम्‍बै आमक गाछ थि‍क।   तुईन, एकर फड़ मासि‍क अनि‍यमि‍तता आ ल्‍युकोरि‍या इत्‍यादि‍ बेमारीमे पीस क' पीलापर ठीक भ' जाइत।    तेतैर गाछ (इमली)    तेतैर-2   नारि‍यल    नीम पात    पीठारी एकर लकड़ीसँ सलाइक काठी बनैत।   पीपड़ गाछ एकर छाल उपयोग खुरहा बेमारीमे कएल जाइत एवं एकर फड़क सेहो दवाइ बनैत   पीपड़ गाछ शील   बर गाछक शील   बर गाछमे फड़ल बर   बरहर, एकर लकड़ी उपयोगी होइत आ फड़ खाएल जाइत   बरहर-2
सि‍सो यानी कि‍ सि‍सम केर शील ऐ लकड़ीमे सारील बहुत होइत   हुरहुर-1   हुरहुर-2   सीता सोहागो खरही। टाट-फरक आदि‍मे उपयोग होइत। पानक लत्ती खरहीये पर लतरैत। सभसँ बेसी उपयोग बरैबमे देखल जाइत।  कदम गाछ-२  अजमैन (अजमइन)   आदी   इंग्‍लि‍श बबुल गाछ   इग्‍लि‍श बबुल-2  एगच्‍छा  ओल गाछ  कटहर गाछ  कदम गाछ  कनैल फूल   करोटन-1   करोटन-2   करोटन-3   करोटन-4
तीलकोर फड़। पकलापर लाल भ' जाइत, सुग्‍गाकेँ खाइले देल जाइत   दुधि‍या। बाबासीरमे फैदा करैत   धथुर (धुथुर) गाछ।   धान   नीम गाछ,एकर छाल आ पातोसँ छनका बना क' पीलो जाइत आ घा-घोसकेँ धोलो जाइत     नीम गाछ-पात   नेपाली तुलसी-2     परोर पात   पसीध गाछ काँट सहीत   पानि‍क केसौर (चौरीमे होइत)    पुदीना। पुदीना पातक चटनी बनैत, सरबत बनैत। पात पीस क' पीलापर पेटक गैस कम होइत     पेटक पथरीमे उपयोगी   बगहन्‍डी   बाँसक औइद (ओइध)   बैजन्‍त्री, कटहरबा, केरबा गाछ   बैजन्‍त्री, कटहरबा, केरबा फूल  बैजेन्‍त्री पात  मनी प्‍लान्‍ट   मेहदी पात   राहैर (राहर) दालि केर गाछ
लत्‍तीमे फड़ल ति‍लकोर   ललका पातबला करोटन आ हरि‍यर पातबला खम्‍हरूआ (खम्‍हाउर)    श्‍याम तुलसी   सम्‍मी   सरपत फूल   सरीफा    सागबान पात   साहोर गाछ। डाढ़ि‍क दतमैन बनैत। कहल जाइत जे साहोर गाछपर ठनका नै खसैत     साहोर गाछक शील। ऐ गाछक वृद्धि‍ बहुत कम होइत     साहोरक पात   सि‍ग्‍हार फूल नीचाँमे खसल    सि‍ग्‍हार फूलक गाछ   सेब गाछ   हरदि‍ (हरैद) पात कुम्‍ही (कुम्‍भी)-1
उमेश मण्डल (मिथिलाक जीव-जन्तु)
घोंघी, (घोंघहा) एकर मांसक तीमन खाएल जाइत, उसनि‍ क' सुरका बना सुरकलो जाइत आ कोनो वर्तनमे राखि‍ पान-सात घंटा बाद छुटलाहा पानि‍केँ ममरखामे धि‍या-पुताकेँ पि‍औल जाइत आ सुलबाइमे सेहो फैदा करैत।  छही माछ   नम्‍हरका गरै तैसँ छोटका गरचुन्‍नी एक-आधटा कोतरी   नैनी (नयनी) माछ   पोठी माछ   पोठी माछ-2   बि‍केट माछ   बुआरी माछ   बुआरी माछ-2   भुल्‍ला माछ
उमेश मण्डल (मिथिलाक जिनगी)
राजनाथ मिश्र (चित्रमय मिथिला)

1  2  3  4  5  6  7  8  9  10
1 2  3  4  5  6

प्रीति ठाकुरक मिथिला चित्रकला

तूलिकाक मिथिला चित्रकला
उमेश कुमार महतोक मिथिला चित्रकला
कैलास कुमार मिश्र - यायावरी फोटो
प्रबोध सम्मान

साहित्य अकादमी आ अन्य पुरस्कार
मंत्रेश्वर झा  MamtreshvarJha_Sahitya_Akademi_Award.jpg
रमानन्द झा "रमण"   RamanandJhaRamanBhashaBharatiSamman.JPG
मिथिला रिसर्च इंस्टीट्यूट, दरभंगा आर्काइव
मैथिली-भोजपुरी अकादमी, नई दिल्ली  कविता उत्सव 2009
रामभरोस कापड़ि 'भ्रमर', जनकपुर, कोसी रिपोर्ताज फोटो
श्याम सुन्दर 'शशि', कतार मैथिल रिपोर्ताज फोटो
जितेन्द्र झा, जनकपुर रिपोर्ताज फोटो
लंदन रिपोर्ताज फोटो- सुभाष शाह आ ज्योति झा चौधरी
मैलोरंग
सेमीनार- इंटरव्यू
मिनाप, जनकपुरक सड़क नाटक
मिनाप, जनकपुर सड़क चौबटिया नाटक
देवांशु वत्सक नताशा मैथिली कॉमिक्स 

गुवाहाटी विद्यापति पर्व
२००९
फोटो स्लाइडशो
२०१०https://picasaweb.google.com/106165553098463900518/GuwahatiVidyapatiParv2010#slideshow/
२०११
फोटो स्लाइडशो
(अन्तर्राष्ट्रीय मैथिली सम्मेलन आ विद्यापति पर्व)


विदेह मैथिली नाट्य उत्सव २०१२
फोटो स्लाइडशो

विदेह मैथिली नाट्य उत्सव २०१३
फोटो स्लाइडशो

'विदेह'
प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका विदेहक नूतन अंक http://www.videha.co.in/ 
(c)2004-17.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतए लेखकक नाम नहि अछि ततए संपादकाधीन। विदेह- प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका ISSN 2229-547X VIDEHA सम्पादक: गजेन्द्र ठाकुर। सह-सम्पादक: उमेश मंडल। सहायक सम्पादक: राम वि‍लास साहु, नन्द विलास राय, सन्दीप कुमार साफी आ मुन्नाजी (मनोज कुमार कर्ण)। सम्पादक- नाटक-रंगमंच-चलचित्र- बेचन ठाकुर। सम्पादक- सूचना-सम्पर्क-समाद- पूनम मंडल। सम्पादक- अनुवाद विभाग- विनीत उत्पल।
रचनाकार अपन मौलिक आ अप्रकाशित रचना (जकर मौलिकताक संपूर्ण उत्तरदायित्व लेखक गणक मध्य छन्हि) ggajendra@videha.com केँ मेल अटैचमेण्टक रूपमेँ .doc, .docx, .rtf वा .txt फॉर्मेटमे पठा सकैत छथि। रचनाक संग रचनाकार अपन संक्षिप्त परिचय आ अपन स्कैन कएल गेल फोटो पठेताह, से आशा करैत छी। एतऽ प्रकाशित रचना सभक कॉपीराइट लेखक/संग्रहकर्त्ता लोकनिक लगमे रहतन्हि, मात्र एकर प्रथम प्रकाशनक/ प्रिंट-वेब आर्काइवक/ आर्काइवक अनुवादक आ आर्काइवक ई-प्रकाशन/ प्रिंट-प्रकाशनक अधिकार ऐ ई-पत्रिकाकेँ छैै, आ से हानि-लाभ रहित आधारपर छै आ तैँ ऐ लेल कोनो रॊयल्टीक/ पारिश्रमिकक प्रावधान नै छै। तेँ रॉयल्टीक/ पारिश्रमिकक इच्छुक विदेहसँ नै जुड़थि, से आग्रह।। रचनाक अंतमे टाइप रहय, जे ई रचना मौलिक अछि, आ पहिल प्रकाशनक हेतु विदेह (पाक्षिक) ई पत्रिकाकेँ देल जा रहल अछि। मेल प्राप्त होयबाक बाद यथासंभव शीघ्र ( सात दिनक भीतर) एकर प्रकाशनक अंकक सूचना देल जायत। एहि ई पत्रिकाकेँ श्रीमति लक्ष्मी ठाकुर द्वारा मासक ०१ आ १५ तिथिकेँ ई प्रकाशित कएल जाइत अछि। वि दे ह विदेह Videha বিদেহhttp://www.videha.co.in/ विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका Videha Ist Maithili Fortnightly e Magazine विदेह प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका नव अंक देखबाक लेल पृष्ठ सभकेँ रिफ्रेश कए देखू। Always refresh the pages for viewing new issue of VIDEHA.
(c)2004-15. सर्वाधिकार सुरक्षित। विदेहमे प्रकाशित सभटा रचना आ आर्काइवक सर्वाधिकार रचनाकार आ संग्रहकर्त्ताक लगमे छन्हि। रचनाक अनुवाद आ पुनः प्रकाशन किंवा आर्काइवक उपयोगक अधिकार किनबाक हेतु ggajendra@videha.co.in पर संपर्क करू। एहि साइटकेँ प्रीति झा ठाकुर, मधूलिका चौधरी आ रश्मि प्रिया द्वारा डिजाइन कएल गेल। 
(c)2004-15.सर्वाधिकार लेखकाधीन आ जतय लेखकक नाम नहि अछि ततय संपादकाधीन।
'विदेह' (पाक्षिक) संपादक- गजेन्द्र ठाकुर। एतय प्रकाशित रचना सभक कॉपीराइट लेखक/संग्रहकर्त्ता लोकनिक लगमे रहतन्हि, मात्र एकर प्रथम प्रकाशनक/आर्काइवक/अंग्रेजी-संस्कृत अनुवादक ई-प्रकाशन/ आर्काइवक अधिकार एहि ई पत्रिकाकेँ छैक। रचनाकार अपन मौलिक आ अप्रकाशित रचना (जकर मौलिकताक संपूर्ण उत्तरदायित्व लेखक गणक मध्य छन्हि) ggajendra@videha.com केँ मेल अटैचमेण्टक रूपमेँ .doc, .docx, .rtf वा .txt फॉर्मेटमे पठा सकैत छथि। रचनाक संग रचनाकार अपन संक्षिप्त परिचय आ अपन स्कैन कएल गेल फोटो पठेताह, से आशा करैत छी। रचनाक अंतमे टाइप रहय, जे ई रचना मौलिक अछि, आ पहिल प्रकाशनक हेतु विदेह (पाक्षिक) ई पत्रिकाकेँ देल जा रहल अछि। मेल प्राप्त होयबाक बाद यथासंभव शीघ्र ( सात दिनक भीतर) एकर प्रकाशनक अंकक सूचना देल जायत। एहि ई पत्रिकाकेँ श्रीमती लक्ष्मी ठाकुर द्वारा मासक १ आ १५ तिथिकेँ ई प्रकाशित कएल जाइत अछि।


 ५ जुलाई २००४ केँhttp://gajendrathakur.blogspot.com/2004/07/bhalsarik-gachh.html  
“भालसरिक गाछ”- मैथिली जालवृत्तसँ प्रारम्भ इंटरनेटपर मैथिलीक प्रथम उपस्थितिक यात्रा विदेह- प्रथम मैथिली पाक्षिक ई 
पत्रिका धरि पहुँचल अछि,जे http://www.videha.co.in/ पर ई प्रकाशित होइत अछि। आब “भालसरिक गाछ”
 जालवृत्त 'विदेह' ई-पत्रिकाक प्रवक्ताक संग मैथिली भाषाक जालवृत्तक एग्रीगेटरक रूपमे प्रयुक्त भऽ रहल अछि। 
विदेह ई-पत्रिका ISSN 2229-547X VIDEHA